top of page

हनुमानप्रसाद पोद्दार और गीता प्रेसकी क्रांतिकारी यात्रा

एक दूरदर्शी और धर्मनिष्ठ हिंदू, हनुमान प्रसाद पोद्दार ने एक उल्लेखनीययात्रा शुरू की जिसनेभारत में धार्मिक साहित्यके परिदृश्य को हमेशा केलिए बदल दिया। राजस्थानके रतनगढ़ में एक समृद्धबंगाली परिवार में जन्मे पोद्दारने पारंपरिक शिक्षा प्राप्त की और पुरानेभारत की समृद्ध सांस्कृतिकविरासत को आत्मसात किया।व्यापक भारत, महानगरीय कोलकाता और दमनकारी ब्रिटिशराज के संपर्क मेंआने से उन्हें भारतकी दयनीय स्थिति का गहरा एहसासहुआ और भारतीयों मेंअपनी संस्कृति और मूल्य प्रणालीके बारे में गर्वपैदा करने की तत्काल आवश्यकता थी।



प्रारंभिक जीवन और शिक्षा रतनगढ़, राजस्थान में

हनुमान प्रसाद पोद्दार का जन्म राजस्थान के रतनगढ़ में एक मारवाड़ीअग्रवाल व्यापारिक परिवार में हुआ था। छोटी उम्र से ही, उन्होंने पारंपरिक शिक्षा प्राप्त की और उनके पिता ने उन्हें अंग्रेजी सीखने के लिए विशेष रूप से प्रोत्साहित किया, क्योंकि परिवार की कोलकाता में व्यावसायिक रुचि थी। पारंपरिक दृष्टिकोण और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत वाले परिवार में पोद्दार के पालन-पोषण ने उनके भविष्य के प्रयासों की नींव रखी।


कोलकाता में ट्रेडिंग वेंचर्स और एक्सपोज़र

एक किशोर के रूप में, पोद्दार की शादी हो गई और वह अपने पिता के व्यापारिक व्यवसाय में काम करने लगे।उन्होंने पूरे उत्तर भारत में बड़े पैमाने पर यात्रा की, मूल्यवान अनुभव प्राप्त किया और अंततः परिवार के कोलकाता कार्यालय का कार्यभार संभाला। ब्रिटिश राज की राजधानी कोलकाता ने पोद्दार को नए विचारों और पूरे भारत के लोगों के विविध मिश्रण से अवगत कराया। इस प्रदर्शन ने, भारतीय संस्कृति के बारे में उनके गहन ज्ञान के साथ, भारत की दुर्दशा और परिवर्तन की तत्काल आवश्यकता के बारे में उनकी जागरूकता को तीव्र कर दिया।


निर्णायक मोड़: बंगाली क्रांतिकारियों से मुठभेड़

पोद्दार के जीवन में नाटकीय मोड़ तब आया जब वह कोलकाता में युवा बंगाली क्रांतिकारियों के संपर्क में आये। जिस छात्रावास में वे रहते थे वह इन क्रांतिकारियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय स्थल बन गया, जिसके कारण ब्रिटिश अधिकारियों ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया और कारावास में डाल दिया। हालाँकि पोद्दार किसी भी हिंसक कृत्य में सीधे तौर पर शामिल नहीं थे, लेकिन राष्ट्रवादी क्रांतिकारियों के साथ पोद्दार के जुड़ाव ने भारतीय राष्ट्रवाद और भारत की स्वतंत्रता के लिए लड़ने की आवश्यकता के प्रति उनकीआँखें खोल दीं।


गीताप्रेस का जन्म: एक क्रांतिकारी विचार

जेल में रहते हुए, पोद्दार को भगवद गीता का अध्ययन करने में सांत्वना मिली। उनकी रिहाई के बाद, गीता के प्रति उनका प्रेम बढ़ता गया और वे बाल गंगाधर तिलक और अन्य विद्वानों के लेखन से प्रेरित हुए। पोद्दार गीता की आसानी से सुलभ और सस्ती प्रतियों की कमी से निराश थे, खासकर बाइबिल के व्यापक वितरण की तुलना में। इस अहसास ने उन्हें 1923 में गोरखपुर में गीता प्रेस की स्थापना करने के लिए प्रेरित किया, जिसका मिशन मामूली लागतपर भगवद गीता की हजारों प्रतियों को संपादित करना, वित्तपोषित करना और बड़े पैमाने पर छापना था।


चुनौतियोंपर काबू पाना: गीताप्रेस का विस्तार और प्रभाव

गीताप्रेस के प्रारंभिक वर्ष चुनौतियों से रहित नहीं थे। गीता को छापने के शुरुआती प्रयासों में कई त्रुटियाँ हुईं, जिसके कारण पोद्दार को मामला अपने हाथों में लेना पड़ा। अपने चचेरे भाई जयदयाल गोयनका के सहयोग से उन्होंने गोरखपुर में अपना खुद का प्रिंटिंग प्रेस स्थापित किया। गीता प्रेस ने अपने प्रकाशनों का विस्तार करते हुए इसमें महाभारत, रामायण, उपनिषद और पुराणों को शामिल किया और उनका हिंदी और कई अन्य भाषाओं में अनुवाद किया। उच्च गुणवत्ता वाली छपाई और किफायती कीमतों ने इन पवित्र ग्रंथों को पूरे भारत में हिंदुओं के लिए सुलभबना दिया।


छात्रवृत्तिऔर सांस्कृतिक आदान-प्रदान का केंद्र

गीताप्रेस भारत के विभिन्न क्षेत्रों के विद्वानों का एक मिश्रण केंद्र बन गया, जो अनुवाद पर काम कर रहा था और धार्मिक ग्रंथों के प्रकाशन में योगदान दे रहा था। तमिल, तेलुगु, कन्नड़, बंगाली, मराठी और गुजराती के महत्वपूर्ण कार्यों के अनुवाद के साथ पोद्दार की दृष्टि हिंदी से आगे तक फैली। प्रेस ने सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देने और विरासत को संरक्षित करने के लिए भारत के विभिन्न हिस्सों से धार्मिक कला का भी प्रदर्शन किया।


हिंदू धर्म और सामाजिक मुद्दों की वकालत

पोद्दारन केवल धार्मिक ग्रंथोंके प्रकाशन के लिए समर्पितथे, बल्कि हिंदू धर्म की वकालतकरने और सामाजिक मुद्दोंको संबोधित करने में भीसक्रिय रूप से लगेहुए थे। उन्होंने भारतीयराष्ट्रीय कांग्रेस की नीतियों केबारे में अपनी चिंताएँव्यक्त कीं और गीताकी व्याख्याओं पर महात्मा गांधीके साथ बहस की।गीता प्रेस ने गौरक्षा कोबढ़ावा देने और अस्पृश्यताउन्मूलन की दिशा मेंकाम करने में महत्वपूर्णभूमिका निभाई।


गोरखमठ के साथ सहयोगऔर विरासत का संरक्षण

गीताप्रेस ने गोरख मठके साथ घनिष्ठ सहयोगकिया, मठ के पीठासीनप्रमुख ने प्रेस केसंरक्षक के रूप मेंभी कार्य किया। प्रेस ने कई भाषाओंमें विभिन्न ग्रंथों की 6,000 से अधिक पांडुलिपियोंको संरक्षित करने के लिएएक संग्रह भी स्थापित किया।इसके अतिरिक्त, गीता प्रेस नेएक संग्रहालय का निर्माण किया, जिसमें भारत के विभिन्नक्षेत्रों की धार्मिक कलाकृतियाँप्रदर्शित की गईं, जिससेभारत की समृद्ध सांस्कृतिकविरासत का संरक्षण सुनिश्चितहुआ।


'कल्याण' का उदय

कुछकहानियों से पता चलताहै कि यह घनश्यामदास बिड़ला का विचार था - हिंदू मामलों पर केंद्रित एकमासिक पत्रिका प्रकाशित करने का विचारचचेरे भाई गोयनका औरपोद्दार के मन मेंआया। पोद्दार के संपादन में, कल्याण का पहला अंक 1926 में प्रकाशित हुआ था। जबकिगीता प्रेस लाभ के लिएथा और है भीनहीं, इसके लिए पहले 5 वर्षों के भीतर, दिलमें धर्म के साथजुड़े, दो मारवाड़ी चचेरेभाइयों के बीच स्वाभाविकरूप से आए व्यावसायिककौशल को धन्यवाद। ऑपरेशनके बाद, गीता प्रेसएक सफल बड़ी सूचीऔर एक विशाल वितरणनेटवर्क में फैल गया।


हनुमानप्रसाद पोद्दार की विरासत

संपादक, लेखक और आध्यात्मिक मार्गदर्शक: हनुमान प्रसाद पोद्दार, जिन्हें प्यार से भाईजी कहाजाता है, ने भारतके साहित्यिक और आध्यात्मिक परिदृश्यपर एक अमिट छापछोड़ी। धार्मिक पत्रिका "कल्याण" के संपादक केरूप में उन्होंने हिंदीऔर अंग्रेजी में आध्यात्मिक औरमूल्य-उन्मुख विषयों पर विस्तार सेलिखा। उपनिषदों, पुराणों और अन्य धर्मग्रंथोंके उनके अनुवादों नेभाषाई पहुंच और दार्शनिक गहराईके बीच संतुलन बनाया।ऐसा कहा जाता हैकि विभिन्न देवताओं के बारे मेंअपने संदेहों का उत्तर खोजतेसमय उन्हें प्रत्यक्ष दैवीय हस्तक्षेप प्राप्त हुआ था।


हनुमानप्रसाद पोद्दार का भारतीय संस्कृतिके प्रति अटूट समर्पण, भगवदगीता की उनकी गहनसमझ और उनकी उद्यमशीलताकी भावना के कारण गीताप्रेस का निर्माण हुआ।अपने किफायती प्रकाशनों और व्यापक वितरणके साथ, गीता प्रेसने लाखों हिंदुओं के लिए धार्मिकसाहित्य की पहुंच मेंक्रांति ला दी। पोद्दारकी विरासत पीढ़ियों को प्रेरित करतीरहती है, सांस्कृतिक विरासतको संरक्षित करने, विद्वता को बढ़ावा देनेऔर समाज में आध्यात्मिकमूल्यों के पोषण केमहत्व पर जोर देतीहै।

21 views0 comments

Comments


bottom of page